karuwaki logo

सांझ- सूर्य अर्घ्य २०२०

Nov. 20, 2020, 11:01 a.m. by Karuwaki Speaks ( 319 views)

Share via WhatsApp

छठी मैया की आराधना का पर्व छठ पूजा बिना सूर्य को अर्घ्य दिए पूरा नहीं होता है। छठ व्रत का पहला सूर्य अर्घ्य षष्ठी तिथि को दिया जाता है। बता दें, आज छठ का पहला अर्घ्य सूर्य भगवान को दिया जाएगा। यह अर्घ्य अस्ताचलगामी सूर्य को दिया जाता है। जिसमें जल को दूध में डालकर सूर्य की अंतिम किरण को अर्घ्य दिया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यह अर्घ्य भगवान सूर्य की पत्नी प्रत्यूषा को दिया जाता है।

Responsive image

हिंदू धर्म में यह पहला ऐसा त्‍योहार है जिसमें डूबते सूर्य की पूजा की जाती है. छठ के तीसरे दिन शाम यानी सांझ के अर्घ्‍य वाले दिन शाम के पूजन की तैयारियां की जाती हैं. इस बार शाम का अर्घ्‍य 20 नवंबर को है. इस दिन नदी, तालाब में खड़े होकर ढलते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. फिर पूजा के बाद अगली सुबह की पूजा की तैयारियां शुरू हो जाती हैं.

Responsive image

चौथे दिन सुबह के अर्घ्‍य के साथ छठ का समापन हो जाता है. सप्‍तमी को सुबह सूर्योदय के समय भी सूर्यास्त वाली उपासना की प्रक्रिया को दोहराया जाता है. विधिवत पूजा कर प्रसाद बांटा जाता है और इस तरह छठ पूजा संपन्न होती है. यह तिथि इस बार 21 नवंबर को है.

Responsive image

छठ पूजा में वैसे तो कई तरह के प्रसाद चढ़ाए जाते हैं लेकिन उसमें सबसे अहम ठेकुए का प्रसाद होता है, जिसे गुड़ और आटे से बनाया जाता है।

Responsive image

छठ की पूजा इसके बिना अधूरी मानी जाती है। छठ के सूप में इसे शामिल करने के पीछे यह कारण है कि छठ के साथ सर्दी की शुरुआत हो जाती है और ऐसे में ठंड से बचने और सेहत को ठीक रखने के लिए गुड़ बेहद फायदेमंद होता है। छठ की पूजा में चावल के लड्डू भी चढ़ाए जाते हैं। इन लड्डुओं को विशेष चावल से बनाया जाता है। इसमें इस्तेमाल होने वाले चावल धान की कई परतों से तैयार होते हैं।

Responsive image

आपको बता दें कि इस दौरान चावलों की भी नई फसल होती है और इसलिए जैसा माना जाता है कि छठ में सूर्य को सबसे पहले नई फसल का प्रसाद अर्पण किया जाना चाहिए इसलिए चावल के लड्डू को भोग में चढ़ाने की परंपरा है।

Responsive image

इस तरह देखा जाए तो जो भी छठ पूजा में प्रसाद चढ़ता है उन सब चीजों को सेहत के लिए बेहद लाभदायक माना जाता है।


Comments (0)